Search

Wednesday, January 16, 2013

बेबसी


बेबसी ये कि चलना ही है,

न सफर का मकसद, न मंजिल की खबर,

एक बेकसी सी है, न जाने कैसी,

खुदी के तलाश की, या हसरत तेरे साथ के सुकून की?
Creative Commons License
This work by Chaitanya Jee Srivastava is licensed under a Creative Commons Attribution-Noncommercial-No Derivative Works 2.5 India License.
Based on a work at chaitanya-insearch.blogspot.com.