Monday, December 17, 2012

मादकता


सुखकारी प्रणय की मादकता,

मय के प्यालों से कैद नहीं,

फिजां में बिखरी है इसकी खुशबू हर सूं,

रूह की खलव्तों में इसे महसूस करो |

No comments:

Creative Commons License
This work by Chaitanya Jee Srivastava is licensed under a Creative Commons Attribution-Noncommercial-No Derivative Works 2.5 India License.
Based on a work at chaitanya-insearch.blogspot.com.