Wednesday, March 10, 2010

तलाश

यद्यपि जानता हूँ कि संवेदनाओं के प्रभाव छेत्र (Domain) में ,
अनुभूतियों के परास (Range) का वृहत (Universal) समुच्चय (Set) हूँ मैं,
फिर भी कौन सी अंतहीन गवेषणा (Search) है? - पता नहीं,
खुद में सार्थक व्यक्तित्व की तलाश है मुझे!

No comments:

Creative Commons License
This work by Chaitanya Jee Srivastava is licensed under a Creative Commons Attribution-Noncommercial-No Derivative Works 2.5 India License.
Based on a work at chaitanya-insearch.blogspot.com.