Monday, June 29, 2009

संवेदनाएं

पीडा की बोझिलता या
अनुभूतियों की उलझी गाँठ
भावनाओं की व्यंजकता या
गलित होता स्व?
संवेदनाओं की दुरुह्ताओं का
आशय कोई कैसे समझे?

No comments:

Creative Commons License
This work by Chaitanya Jee Srivastava is licensed under a Creative Commons Attribution-Noncommercial-No Derivative Works 2.5 India License.
Based on a work at chaitanya-insearch.blogspot.com.