Tuesday, June 23, 2009

मंजिल

मेरी कश्ती थी मझधार में,
मंजिल का पता न था,
सर्द हवाओं के थपेडों ने,
जिस ओर धकेला मै चला गया,
ज़ुल्मत-ए-शब में दफातन
नूर दिखा तेरे चिराग-ए-दिल का,
दिल की कोयल ने मुझसे कहा,
तेरी मंजिल-ए-सहर यही है,
हवाएं भी रुख बदलेंगी,
नूर-ए-आफताब न हुआ तो क्या हुआ?
चिराग-ए-दिल तो जल गए!

2 comments:

mac said...

impressive sirji..
Lot of meaning in those few lines..

Chaitanya Jee said...

Thanks mahesh,

Nice to know that you got many meanings out of those lines

Creative Commons License
This work by Chaitanya Jee Srivastava is licensed under a Creative Commons Attribution-Noncommercial-No Derivative Works 2.5 India License.
Based on a work at chaitanya-insearch.blogspot.com.